Sunday, August 18, 2013

वो आदमी ।

बस stop पे बस लेटा हुआ आदमी,
न मेरी आहट सुनी, न नींद से जगा,
बस stop पे बरबस लेटा हुआ आदमी ।
झुर्रियाँ खा़़़ल से निकाल दें तो,
कंकाल भी मुश्किल से ही बन पाता,
बस stop पे करतस लेटा हुआ आदमी ।

कमज़ोर,
लाचार,
बद्होश,
बद्हवास,
बद्नसीब,
वो आदमी,
वो लेटा हुआ आदमी ।

No comments:

Post a Comment