Saturday, October 26, 2013

Ramp

जब कभी भी आना ऐ मौत,
मुझे बता कर आना,
ख़त्म होने से पहले, एक बार,
साथ घूमने चलेंगे। 

उस रास्ते पर,
जिसके एक छोर पर सब छिपते हैं,
और दुसरे पर,
कुछ छिपता नहीं। 

No comments:

Post a Comment