Monday, March 31, 2014

कल रात को

कल रात को,
जो नारियल कि चटनी खायी थी तुमने,
ये वही स्वाद है,
जो मेरी ज़बान पर, तुम्हारे होंठों से  उतर आया था,
और अब जाता नहीं_______



No comments:

Post a Comment