Friday, October 17, 2014

कौन कहता है,


जो दवा न मिले
तो मर जाता है आदमी,

इक आवाज़ ही काफ़ी होती है,


ज़िन्दगी में कभी-कभी। 

No comments:

Post a Comment