Monday, April 25, 2016

कुछ दूर चलो इन चप्पलों में,
ज़रा धुप सहो, 
जूतों के पीछे तो हर अंगूठे को 
मोज़ों का आँचल नसीब है। 

No comments:

Post a Comment