Thursday, November 3, 2016

सब बना लिया इंसान ने,
तो एक, जो कहीं दूर पीछे बैठा था, 
पंक्तियों से छुप कर, कहीं नीचे बैठा था,
बोला :
२ रुपये की ताज़ा हवा देना, 
सब बोले "हाँ, किसी ने तो बनाई होगी?"


"हम भी खरीदेंगे, हम भी खरीदेंगे।"

 ... and it echoed for a while.

No comments:

Post a Comment