Monday, November 21, 2016

पता है?
वक़्त आएगा,
तब तक,
युहीं सुनने पड़ेंगे,
तुम्हारे  mediocre अल्फ़ाज़,
और उससे भी mediocre तुम्हारे ख़याल,
तुम्हारे इर्द गिर्द रहता हूँ,
तो कटी bias पे किसी dress सा महसूस करता हूँ,
जो जब काटी होगी,
तो Madeleine ने भी गलती से ही काटी होगी,
और बस Fall अच्छा आता है,
बस fall आता है,
न उठती है ज़िन्दगी,
न क़िस्मत बदलती है,
तुम्हारे इर्द गिर्द रहता हूँ,
तो बड़ा guilty सा महसूस करता हूँ,
कि कुछ गलत हो रहा है यहाँ,
और मैं फिर भी,
सुनता रहता हूँ,
तुम्हारे  mediocre अल्फ़ाज़,
और उससे भी mediocre तुम्हारे ख़याल। 




 

No comments:

Post a Comment