Friday, July 27, 2018

सिर्फ़ सोने से डरता हूँ मैं।

कभी कभी सिर्फ़
भरोसा करने से डरता हूँ मैं,
पानी सामने होता है,
शायद साफ़,
पर तैरने से डरता  हूँ मैं,
...
______________________


उसको कोई फ़र्क़ नहीं पड़ता था,
मेरे सामने लेटी रहती थी, बिन धागों के,
मेरी उंगलियां रेंगती रहती थीं,
जब उसके boyfriend का phone आता था,
तो कितना रोती थी,
चीखती थी, चिल्लाती थी,
एक हाँथ से handset को पकड़े, बातें करती रहती,
और दुसरे से अपनी कसी मुट्ठी में मुझे दबाये,
अपने मौजूद होने का एहसास दिलाती,
इधर मेरा शरीर ढीला पड़ जाता,.. उसकी कलाई की रफ़्तार से,
और उधर उनका सुलह हो जाता।
फिर,
घर आते वक़्त,
बहुत बुरा लगता उस लड़के के लिए,
जो हज़ार माफियां मांगता उससे phone पर पहले,
और फिर सो जाता होगा।
.....

कैसे नंगी लेटी रहती थी, मेरे सामने,
कमर के पास कैसे उठता गिरता था मांस उसका,
कैसे अपनी छाती पर मेरा हाथ रख कर रगड़ती थी,
अपने होठों से क्या-क्या तो नहीं पकड़ती थी,
कैसे निगल लेती थी,
... हर एक बात,
कैसे एक- दो चेहरे पर पड़ी बूंदों को,...
ज़बान से ठेल -ठेल कर मुँह तक पहुंचती अपने,
मैं यहां ताका करता,
और वो वहां सो जाता होगा।

कभी-कभी सिर्फ,
भरोसा करने से डरता हूँ मैं,
मक़ान सामने दिखता है,
तो ठहर जाता हूँ,
और आगे चलने से डरता हूँ मैं,


_______________________



वो कैसे मेरे कमरे में बेपर्दा होती थी,
कैसी कैसी नज़रों से देखती थी,
शादीशुदा थी,
और अपने बेटे,घर, परिवार से बहुत प्यार करती थी,
मुझसे कहती थी,
कुछ पूछना मत, कुछ कहना मत,
करना बहुत कुछ,
फिर कुछ करना मत,


कैसे रेंगती थी, मेरे पास आने पर,
कैसे थिरकती थी मेरे छूने पर,
कैसे मेरे बालों को कस कर पकड़ती थी,
जब उसकी और मेरी कमर के ठीक नीचे,
सारी दूरियां मिट जाती थीं।
उधर वो इंतज़ार करता रहता होगा घर पर,
और फिर सो जाता होगा ,

कभी-कभी सिर्फ़ ,
भरोसा करने से डरता हूँ मैं,
सपना नज़दीक होता है,
पर आँख खुल जाती है,
और दोबारा आँख बंद करने से डरता हूँ मैं,


_________________________



वो दोनों,
साथ रहते थे,
वो american थी,
और वो न जाने क्या था,
एक project के सिलसिले में
पहली बार मिले थे ,
जब भी वो शहर में नहीं होता था,
मुझे घर पर बुलाती थी,
दरवाज़ा खोलती थी,
तो बत्तियां बंद होती थीं,
कपड़े बदन को छोड़ कर,
सोफों पे पड़े रहते थे,
कितने बेशर्म थे?
मेरी कमर और बेल्ट के बीच। ..
न जाने कैसे अपनी चार उँगलियाँ फंसा कर,
buckle को अपने अंगूठे दबाये,
दुसरे कमरे  लेकर जाती थी,
कहती थी,
वो  ऊपर वाला कमरा,
... उसका है,
और वहां उनका एक छोटा सा घर है,
जो बहुत साफ़ है,
यहां नीचे रहेंगे रात भर,
तुम जो भी कहोगे वही पहनूंगी,
फिर तुम धीरे-धीरे रात भर उतरना,
जो भी करना है,
यहीं नीचे करेंगे रात भर,

एक रात अँधेरा ज़्यादा था,
कुछ नहीं दिख रहा था,
नहीं दिख रहा था मुझको जब वो मेरी गोद में थी,
नंगी।
नहीं दिख रहा था उसको,
जब मैं उसको हांथों में लिए सीढ़ियां चढ़ रहा था,
नहीं चुभ रहे थे दांत उसके,
कानों में मेरे ,
नहीं सम्भल रहा था वज़न उसका,
फिसलन थी,
और पसीना जो बह रहा था,
तो एक ही कमरा जो साफ़ था,
पूरे घर में,
दाग उसमें भी पड़ गए थे,
रात भर पसीना बहने से।

उधर वो ticket खरीद रहा होगा,
और लम्बे सफ़र में घर लौटते वक़्त,
थक कर सो जाता होगा।


कभी-कभी अब किसी भी रिश्ते में,
सिर्फ़ सोने से डरता हूँ मैं।



-मिस्रा
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                       







No comments:

Post a Comment